पपीता खाने के फायदे: जानिए 12 चौंका देने वाले फायदे

42 1000 X

पपीता एक स्वादिष्ट फल है, ये तो आप सभी जानते हैं लेकिन ये किस तरह से आपके लिए लाभकारी है। ये बहुत कम लोग जानते हैं।जानकारी के लिए बता दें, पपीते का फल वनस्पति कैरिका पपाया से है, जो मध्य अमेरिका और दक्षिणी मैक्सिको से उत्पन्न हुआ था, लेकिन अब यह दुनिया के अधिकांश अन्य भागों में उगाया जाता है।जब यह कच्चा होता है तो रंग हरा होता है और पक जाने पर नारंगी रंग होता है। इसमें कई काले बीज होते हैं, जिसे खाया तो जा सकता है लेकिन वे खाने में कड़वे होते हैं। 

वैसे पपीता अपने पौष्टिक तत्वों के लिए जाना जाता है।पपीता के साथ-साथ इसके पत्ते और बीज भी हमारे लिए कई तरह से लाभदायक होते हैं।पपीते को कच्चा या पका किसी भी तरह से खाया जा सकता है। इसके पत्तियों में एंटीमलेरियल तत्व पाए जाते हैं।जो प्लेटलेट्स काउंट बढ़ाने का काम करता है। मलेरिया और डेंगू के मरीजों के लिए पपीता कई तरह से मददगार होता है। कम लोगों को ही यह जानकारी है कि पपीता कब खाना चाहिए। यह फल सुबह खाली पेट खाने से सबसे अधिक फायदा करता है।

पपीते से होने वाले 12 लाभ इस प्रकार हैं (2)

आमतौर पर पपीते में हमें अनेक तरह के फायदे होते हैं, यहां पपीते से होने वाले 12 फायदों के बारे में बताया गया है, जो आपके स्वास्थ्य  से जुड़ी हुई समस्याओं को दूर करने में सहायक है।इसके लाभ इस प्रकार से हैं।

  1. विटामिन सी का स्रोत: पपीता विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है, जो आपके शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है।
  2. पाचन संबंधी समस्याओं के लिए लाभदायक: पपीता एंजाइम्स पपेन और कीटिनेस का स्रोत है, जो पाचन सिस्टम को सुधारते हैं।
  3. रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद: पपीते में पोटैशियम और आंटोसायनिन के साथ होने से रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।
  4. हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद: पपीते में फाइबर और विटामिन सी की उच्च मात्रा हृदय स्वास्थ्य को सुधारती है।
  5. त्वचा  के लिए उपयोगी: पपीते में विटामिन ए और विटामिन सी की अच्छी मात्रा होती है, जो त्वचा के लिए फायदेमंद होते हैं।
  6. आंखों के लिए फायदेमंद: पपीते में विटामिन ए और लुटियन जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो आंखों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं।
  7. कब्ज का इलाज: पपीता पेट से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है, जैसे कि कब्ज और एसिडिटी।
  8. वजन घटाने में सहायक: पपीता कम कैलोरी और अधिक फाइबर का स्रोत है, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है।
  9. बालों के लिए फायदेमंद: पपीते में मौजूद विटामिन ए के सेवन से बालों को वृद्धि मिलती है और बालों की मजबूती बढ़ती है।
  10. ऑक्सीडेंट्स का स्रोत: पपीते में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो शरीर के खराब तत्वों को नष्ट करने में मदद करते हैं।
  11. इम्यून सिस्टम को सुधारता है: पपीते में पोटैशियम, विटामिन सी, और विटामिन ए की विशेष मात्रा होने से इम्यून सिस्टम को सुधारता है।
  12. एंटी-इंफ्लेमेट्री प्रॉपर्टीज़: पपीता में एंटी-इंफ्लेमेट्री प्रॉपर्टीज होती है, जो कई प्रकार के सूजन को कम करने में मदद करते हैं। पपीते में पेपेन नामक एंजाइम संशोधन क्रिया को बढ़ावा देता है जिससे शरीर के विषाणुओं से लड़ने की क्षमता में सुधार होता है। 

पपीता का पीरियड्स या गर्भावस्था में सेवन (1)

43 1000 X

पपीता (Papaya) खाना पीरियड्‌स के समय कुछ महिलाओं के लिए फायदेमंद हो सकता है, जबकि कुछ महिलाओं के लिए नुकसानदायक होता है। प्रत्येक महिला के शरीर पर इसका प्रभाव अलग-अलग तरह से होता है। इसी कारण से कुछ कंडीशन में पपीते का सेवन करने से पहले चिकित्सक परामर्श करना जरूरी है।पपीता में पोटेशियम और पेपेन के कारण, यह ब्लीडिंग को बढ़ा सकता है। कुछ महिलाएं जिनका ब्लीडिंग पहले से ही अधिक होता है, उन्हें पपीते का सेवन करने से बचना चाहिए।पपीते में पेपेन और लेटेक्स होता है, जो गर्भाशय को संकुचित (shrink) करने का कार्य करता है। इसलिए गर्भावस्था की स्थिति में रहने वाली महिलाओं को इसे खाने से बचना चाहिए।

पपीते का आयुर्वेदिक दवाओं में उपयोग  (1)

प्राचीन काल से ही पपीते के पूरे पौधे जैसे कि इसकी पत्तियों, छालों, जड़ों,पके और कच्चे फलों और उनके रस का उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है।पपीता आयुर्वेद में अच्छा पाचन कारक माना जाता है और अपच, एसिडिटी, और गैस की समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकता है। पपीता विटामिन ए, सी, ई, के, फोलेट और फाइबर का एक अच्छा माध्यम है। इसके अलावा यह फैट फ्री, कोलेस्ट्रॉल फ्री होता है।इसमें सोडियम की मात्रा कम होता है। पपीता में पाए जाने वाले विटामिन सी, विटामिन ए, और प्रोटीन स्किन को हेल्दी बनाए रखने में मदद करते हैं।

निष्कर्ष

निष्कर्ष से यह पता चलता है कि, पपीता को अपने डाइट का हिस्सा बनाया जा सकता है, यह आपके लिए एक हेल्दी विकल्प है।इसे आप सलाद, शेक, फ्रूट चाट या अपने पसंद के आधार पर अपने भोजन या नाश्ते में   शामिल कर सकते हैं। तो वहीं आपको यह भी ध्यान में रखना है कि यदि आप किसी तरह के हेल्थ कंडीशन, स्तनपान  या गर्भावस्था  में हैं तो आपको इसका उपयोग करने से पहले चिकित्सक सलाह लेना अति आवश्यक है। यह सिर्फ कुछ प्रमुख फायदे हैं जो पपीते के सेवन से मिलते हैं। नेचुरल खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन करने के लाभ के लिए, इससे सम्बंधित विशेषज्ञ या चिकित्सक की उचित सलाह लेना आवयश्यक है।

Q&A

अपने दैनिक आहार में पपीता को कैसे शामिल करें?

पपीता का आनंद लेने के कई तरीके हैं।आप उन्हें सबसे पहले स्नैक के रूप में खा सकते हैं, इसके अलावा सलाद में मिलाकर या स्मूदी में बनाकर भी ले सकते हैं। यह एक हेल्दी विकल्प है इसे आप अलग-अलग तरह से अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

क्या पपीता मधुमेह (diabetes) में लेना सही है?

पपीता डायबिटीज के लोगों के लिए उचित हो सकता है जब इसे मध्यम मात्रा में और संतुलित आहार के हिस्से के रूप में सेवन किया जाता है। हालांकि, डायबिटीज के व्यक्तियों के लिए आवश्यक है कि वे कार्बोहाइड्रेट को नियंत्रण में रखें  क्योंकि पपीते में प्राकृतिक चीनी (नेचुरल शुगर) होती है जो ब्लड शुगर लेवल पर असर कर सकती है।

क्या मैं कब्ज (constipation) के प्राकृतिक उपचार के रूप में अंगूर का उपयोग कर सकता हूं?

हां, पपीते को कब्ज के लिए एक प्राकृतिक उपाय के रूप में उपयोग किया जा सकता है। पपीता खाद्य फाइबर से भरपूर होता है, इसमें विशेष रूप से घुलनशील फाइबर होते हैं, जो नियमित रुप से मल त्याग करने और कब्ज को दूर करने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य जानकारी के लिए है और इसका उद्देश्य किसी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। उचित चिकित्सा परामर्श के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

  1. https://odontoanamaria.com/artigos/mamao01.pdf
  1. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC8870802/
50
Avatar

Dr Sunanda Ranade

Sunanda Ranade is Vice-Chairman of the International Academy of Ayurved, Pune, India, and an expert Ayurvedic gynecologist and nutritionist. She has been working in this field for the last 47 years. Dr. Sunanda Ranade holds a Doctorate in Ayurveda. She is also the author of several books on Ayurveda and Yoga, which have been published in Marathi, English, Spanish, and Portuguese.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here